दिवाली पर निबंध |Diwali Essay in Hindi |Diwali Nibandh

Diwali Essay in Hindi |Diwali Nibandh

दीवावली दिवाली शब्द से बनकर बना है । इसका अर्थ है दीपकों की माला । यह बड़ा सुनहरा पर्व है । यह कार्तिक महीने की अमावस्या को मनाया जाता है । दिवाली से एक दो दिन पहले लोग घरों की सफाई करते हैं ।

कूड़ाकरकट बाहर फेंकते हैं । सफेदी करवाते हैं । घरों को खूब सजाते हैं । यह सफाई का भी पर्व है । बाजारों में भांति-भांति की मिठाइयां सजी हुई होती हैं । बच्चे सुन्दर सुन्दर कपड़े पहनकर अपने माता, पिता, भाई बहिन, आदि के साथ बाजार जाकर मिठाइयां, खिलौने चित्र कंडील, गुब्बारे, मोमबत्तियां आदि खरीदकर लाते हैं । सब के मन बड़े प्रसन्न होते हैं । सायंकल होते ही हम घरों के ऊपर तेल के दिये या मोमबत्तियां जलाते हैं ।

कुछ लोग बिजली की लड़ियों का प्रकाश करते हैं । उस समय चारों ओर बड़ी सुन्दर दीपमाला होती है । फिर सब मिलकर मिठाइयां खाते हैं । पटाखे चलाये जाते हैं । लंका के राजा रावण को मारने के बाद श्रीराम | चन्द्र जी सीता आदि के साथ इस दिन अयोध्या में आये थे । तब अयोध्या में बड़े उत्साह से दीपमाला हुई थी। हम भी उसी दिन की याद मनाते हैं । दिवाली को कुछ लोग जुआ खेलते हैं । यह प्रथा बुरी है । दिवाली मनाने से देश में नया जीवन पैदा होता है ।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Diwali Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह दिवाली पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Comment