श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर निबंध |Shri Krishna Janmashtami Essay in Hindi |Shri Krishna Janmashtami Nibandh

Shri Krishna Janmashtami Essay in Hindi |Shri Krishna Janmashtami Nibandh

जन्माष्टमी श्रीकृष्ण की जन्मतिथि है । श्रीकृष्ण का जन्म आज से लगभग ५००० वर्ष पूर्व भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष की अष्टमी की आधी रात के समय बन्दीगृह में हुआ था ।

इनकी माता का नाम देवकी और पिता का नाम वसुदेव था । देवकी मथुरा के अत्याचारी राजा कंस की बहन थी । जब ज्योतिषियों ने बतलाया कि इसी देवकी का आठवाँ बालक तेरा संहार करेगा तो कंस ने बहन और बहनोई को बन्दीगृह में डाल दिया। वहाँ देवकी के जो भी बालक उत्पन्न होता, कंस उसे तुरन्त मरवा देता था।

क्रमश: आठवें बालक श्रीकृष्ण की उत्पत्ति हुई। इस बार वसुदेव ने आधी रात के समय किसी प्रकार श्रीकृष्ण को गोकुल में नन्द के यहाँ पहुँचा दिया और उसी रात नन्द की पत्नी यशोदा के यहाँ उत्पन्न हुई बालिका को लाकर देवकी के पास लिटा दिया। प्रातकाल लड़की उत्पन्न होने का समाचार पाकर निदेय कस ने उस कन्या का भी प्राणान्त कर दिया।

बाद में श्रीकृष्णबलदेव ने कंस को भरी सभा में मारकर पृथ्वी का बोझ हल्का किया। श्रीकृष्ण चतुर राजनीतिज्ञ, विद्वान्, योगिराजत्यागी, शूरवीर, योद्धा, देश का उद्धार करने वाले, सच्चे मित्रअनुपम दानी और सेवाभाव के आदर्श उदाहरण थे ।

दुर्योधन की पराजय, कंस, शिशुपाल, जरासन्ध आदि का । नाश, अर्जुन को गोता का उपदेश, सुदामा की सहायता और युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में अतिथियों के पाँव धोना आदि कार्य श्रीकृष्ण की महत्ता को प्रकट करते थे। श्रीकृष्ण न होते तो भारतवर्ष आज से पांच हजार साल पहले ही पराधीन हो गया होता। श्रीकृष्ण के इन उपकारों को स्मरण करने के लिए और जाति में नया जीवन पूंकने के लिए जन्माष्टमी मनायी जाती है । जन्माष्टमी के दिन लोग उपवास रखते हैं। मन्दिरों को सजाते हैं । रागरंग करते हैं ।

श्रीकृष्ण की मूर्तियों की स्थापना करते हैं। उन्हें वस्त्रों और आभूषणों से सजाते हैं । अवतार भावना से उनकी पूजा करते हैं । बिजली की चकचौंध करने वाला प्रकाश करते हैं । आधी रात के समय जब श्रीकृष्ण के जन्म का समय होता है तो आरती करके कुछ खाते हैं।

श्रीकृष्ण . के प्रति श्रद्धा के फूल चढ़ाने का यह रोचक ढंग है। लोगों में श्रीकृष्ण के गुणों को जानने अपनाने और उन पर अमल करने की भावना उत्पन्न होती है।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर निबंध (Shri Krishna Janmashtami Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Shri Krishna Janmashtami Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Comment