क्रिसमस पर निबंध |Christmasr Essay in Hindi |Christmasr Nibandh

Christmasr Essay in Hindi |Christmasr Nibandh

क्रिसमस ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह का जन्मदिन है। विश्व के अन्य ईसाई धर्मा वलंबियों के साथ भारत के ईसाई भी इस त्योहार को प्रतिवर्ष 25 दिसंबर के दिन धूमधाम से मनाते हैं।

दिलचस्प तथ्य यह है कि ईसा मसीह के जन्म के बाद की दो शताब्दियों तक क्रिसमस मनाने का चलन नहीं था। इसके उपरांत प्रभु ईसा (यीशु के जन्मदिन को मनाये जाने का रिवाज पड़ा। पर विभिन्न देशों के ईसाई संत व पादरीगण इस पर्व को एक सुनिश्चित तिथि को मनाए जाने के विषय में ‘एकमत नहीं थे। कुछ देशों के ईसाई इस त्योहार को 6 जनवरी को मनाते तो वहीं कुछ ईसाई समुदाय 26 मार्च को मनाते। ईसाइयों के ‘कैथोलिक समुदाय का एक बड़ा वर्ग क्रिसमस को 25 दिसंबर के दिन ही मनाताकिंतु बाद में दुनियाभर के ईसाई संतों व धार्मोपदेशकों व धर्मगुरु पोप’ ने एकमत हो यह तय किया कि क्रिसमसके पर्व को 25 दिसंबर के दिन ही मनाना जाना चाहिए। क्रिसमस के दिन प्रत्येक ईसाई अपने घर को साफ-सुथरा कर सजातासंवारता है। गिरजाघरों में रंगबिरंगी पताकाओं और प्रकाश व्यवस्था’ के बीच सामूहिक प्रार्थनाएं की जाती हैं।

क्रिसमस पर प्रत्येक ईसाई अपने घर में क्रिसमस ट्री’ लगाता है। ईसाईगण सरु की टहनियों से निर्मित एक पेड़ की आकृति पर जगमग प्रकाश व्यवस्था करते हैं। इस सजेसंवरे पेड़ पर मोमबत्तियां भी जलाई जाती हैं। क्रिसमस पर लोग एक-दूसरे को बधाई पत्र (कार्डभी भेजते हैं। इसी तरह इस अवसर पर लोग उपहारों का पारस्परिक
आदानप्रदान भी करते हैं।

बच्चे इस दिन ‘सेंटा क्लॉज’ जिन्हें ‘फादर क्रिसमस कहा जाता है, की प्रतीक्षा करते हैं। यह परंपरा ठीक उसी प्रकार है, जैसे कि दीपावली के दिन लोग रात्रि में लक्ष्मी के आगमन’ की प्रतीक्षा करते हैं।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को क्रिसमस पर निबंध (Christmasr Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Christmasr  Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह क्रिसमस पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *