गणतंत्र दिवस पर निबंध |Republic Day Essay in Hindi |Republic Day Nibandh

Republic Day Essay in Hindi |Republic Day Nibandh

शताब्दियों की परतंत्रता के उपरान्त भारत 15 अगस्त, 1947 को स्वतंत्र हुआ। स्वतंत्र होने | पर देश के कर्णधारों ने भारत के नवीन संविधान को लागू किया। तभी से भारत का सर्वोच्च शासक राष्ट्रपति कहलाया। भारत का नवीन संविधान 26 जनवरी1950 को लागू किया गया और यह दिन भारत का गणतन्त्रदिवस कहलाया। भारत इस संविधान के अनुसार गणराज्य घोषित किया गया और तभी से 26 जनवरी का दिन प्रतिवर्ष गणतन्त्र-दिवस के रूप में सारे भारतवर्ष में बड़ी धूमधाम से मनाया जाने लगा। 26 जनवरी की तिथि का स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में अपना विशेष महत्व है। सन् 1980 में रावी नदी के तट पर कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में स्वर्गीय पं. जवाहरलाल नेहरू ने पूर्ण स्वतंत्रता की घोषणा की।

26 जनवरी1930 को उन्होंने प्रतिज्ञा की कि जब तक हम पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त न कर लेंगे तब तक हमारा स्वतंत्रता आंदोलन चलता रहेगा और इसे प्राप्त करने के लिए हम अपने प्राणों की आहुति दे देंगे।” इसी कारण 26 जनवरी का दिन ही भारत के गणतन्त्र की घोषणा के लिए चुना गया। 26 जनवरी, 1950 को भारत पूर्णरूपेण गणतन्त्र राज्य घोषित कर दिया गया। इसी दिन हम पूर्ण रूप से स्वाधीन हो गए।

उस दिन लार्ड माउण्टबेटन (गवर्नर जनरल) के स्थान पर डॉ. राजेन्द्र प्रसाद हमारे राष्ट्र के प्रथम राष्ट्रपति बने। आज भी यह पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन भारत की राजधानी नई दिल्ली में राष्ट्रपति की राजकीय सवारी निकाली जाती है। विजय चौक पर राष्ट्रपति जी जलथल एवं वायु सेना की सलामी लेते हैं। तीनों सेनाओं की टुकड़ियां मार्च करती हुई लाल किले तक पहुंचती हैं। अनेक प्रांतों से आए लोकनर्तक अपनी-अपनी वेशभूषा में अपनेअपने लोक-नृत्य- प्रदर्शन तथा विभिन्न प्रकार की झांकियों से अपनी प्राचीन संस्कृति व प्रगति का परिचय देते हैं। 26 जनवरी की सायं को आतिशबाजी छोड़ी जाती है तथा रात्रि के समय सरकारी भवनों पर रोशनी की जाती है।

देश के सभी गांवों, नगरोंस्कूलों व कॉलेजों में सभाएं की जाती हैं। इन सभाओं में देश की एकता, अखण्डता व स्वतन्त्रता को बनाए रखने की प्रतिज्ञा की जाती है। इस प्रकार 26 जनवरी1950 को देश में अपना सविधानअपना राष्ट्रपति, अपनी सरकार तथा अपना राष्ट्रीय ध्वज हो जाने पर भारतवर्ष संसार का सबसे बड़ा गणतन्त्र राष्ट्र बन गया।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को गणतंत्र दिवस पर निबंध (Republic Day Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Republic Day Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह गणतंत्र दिवस पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Comment