जवाहरलाल नेहरू पर निबंध |Jawaharlal Nehru Essay in Hindi |Jawaharlal Nehru Nibandh

Jawaharlal Nehru Essay in Hindi |Jawaharlal Nehru Nibandh

जवाहरलाल नेहरू हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री थे। वे एक महान नेता एवं स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका जन्म 14 नवंबर, 1889 ई. में इलाहाबाद में हुआ था। उनके पिता मोतीलाल नेहरू इलाहाबाद के एक प्रसिद्ध वकील थे। उनकी माता का नाम स्वरूप रानी था। बालक जवाहरलाल की आरंभिक शिक्षा घर पर हुई। उच्च शिक्षा के लिए उन्हें इंग्लैण्ड भेजा गया। वहाँ से वे वकील बनकर लौटे। 1915 . में नेहरू जी का विवाह कमला नेहरू से हुआ। नेहरू जी भारत की दुर्दशा देखकर स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़ेउन्हें गाँधी जी का उचित मार्गदर्शन प्राप्त हुआ। वे कई बार जेल गए। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश के उत्थान में लगा दिया। प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने भारत को प्रगति के मार्ग पर अग्रसर किया। 27 मई, 1964 ई. को उनका निधन हो गया। देश आज भी उनकी सेवाओं को याद करता है। उनके जन्मदिन 14 नवंबर को ‘बाल दिवसके रूप में मनाया जाता है।

जवाहरलाल नेहरू वह महान विभूति हैं, जिन्हें संपूर्ण विश्व जानता है। गाँधीजी की शहादत के 16 वर्ष बाद तक जीवित रहकर उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों ही मंचों पर गाँधीजी की भाषा में बात की। पं. जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर1889 को इलाहाबाद में एक कश्मीरी ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

उनके पूर्वज 2 . कौल थे, परंतु बाद में कौल छूट । गया और यह परिवार केवल नेहरू नाम से जाना जाने लगा। उनके पिता . मोतीलाल नेहरू थे। जवाहरलालमोतीलाल के तीसरे पुत्र थे। मोतीलाल नेहरू इलाहाबाद के सुविख्यात वकील थे।

इलाहाबाद में आनंद भवन मोतीलाल नेहरू ने ही खरीदा था, जब जवाहरलाल नेहरू दस वर्ष के थे। प. जवाहरलाल नेहरू की शिक्षा घर पर ही हुई, बाद में उन्हें वकालत करने इंग्लैण्ड भेजा गया। सन् 1912 में वे वकालत करने भारत लौट आए। फिर उन्होंने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में वकालत शुरू की। बाद में वे राजनीतिक गतिविधियों की ओर आकर्षित हुए और 1916 में उन्होंने कांग्रेस के लखनऊ अधिवेशन में भाग लिया, जहाँ पहली बार उनकी मुलाकात महात्मा गाँधी से हुई। . नेहरू उनसे अत्यंत प्रभावित हुए।

जवाहरलाल नेहरू का विवाह कमला कौल से हुआ था। 1917 में उन्होंने इंदिरा गाँधी को जन्म दिया। तभी 13 अप्रैल1919 को अमृतसर में जलियाँवाला बाग कांड हुआ, जिसमें जनरल डायर ने निहत्थे लोगों पर गोलियाँ चलाने का आदेश देकर सैकड़ों लोगों को मरवा दिया था। इस हत्याकांड की जांच के लिए एक समिति बनाई गई, जिसमें जवाहरलाल नेहरू भी शामिल थे। हालांकि, डायर को इस कांड के लिए ज़िम्मेदार पाया गयाकिन्तु हाउस ऑफ लार्डस् ने उसे दोष मुक्त कर दिया। सन् 1921 के असहयोग आंदोलन में जवाहरलाल नेहरू को गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद से उनकी गिरफ्तारी का सिलसिला शुरू हो गया, तो वे देश आजाद होने तक नौ बार जेल गए और नौ वर्ष से अधिक समय उन्होंने जेल में बिताया।

जेल में ही उन्होंने अपनी आत्मकथा–“डिस्कवरी ऑफ इंडिया” (भारत-एक खोज) लिखी, जो बहुत चर्चित हुईजेल में ही उन्होंने “ग्लिम्प्सेज ऑफ वर्ल्ड हिस्ट्री” की रचना की। सन् 1927 में उन्होंने साइमन कमीशन के खिलाफ प्रदर्शनों में हिस्सा लिया और पुलिस की लाठियों के प्रहार सहन किए। 1929 में, लाहौर अधिवेशन में पं. जवाहरलाल नेहरू को प्रथम बार कांग्रेस का अध्यक्ष चुना गयाइस अधिवेशन के दौरान ही उन्होंने पूर्ण स्वराज’ का प्रस्ताव पेश कियाफिर जब गाँधीजी ने नमक कानून तोड़ने के लिए ‘सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू कियातो उन्हें गाँधीजी और मोतीलाल नेहरू के साथ जेल जाना पड़ा। इसी आंदोलन के चलते 6 फरवरी, 1931 को मोतीलाल नेहरू की मृत्यु हो गई। परंतु पं. नेहरू ने देश की स्वतंत्रता

प्राप्ति के लिए अपने कदम पीछे नहीं हटाए। इन्हीं कष्टों से जूझते हुए 28 फरवरी1936 को नेहरू जी की पत्नी का भी देहांत हो गया। फिर 1936 में पं. नेहरू को दूसरी बार कांग्रेस का अध्यक्ष चुना गया। सारी विफलताओं के बाद ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन शुरू हुआ और 15 अगस्त, 1947 को भारत स्वतंत्र हो गया।

पं. जवाहरलाल नेहरू स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बने और भारत माता की सेवा करते हुए 27 मई 1964 को उनका स्वर्गवास हो गया। उनका नाम इतिहास में स्वर्णाक्षरों में सदैव अंकित रहेगा।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को जवाहरलाल नेहरू पर निबंध (Jawaharlal Nehru Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Jawaharlal Nehru Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह जवाहरलाल नेहरू पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Comment