जवाहरलाल नेहरू पर निबंध |Jawaharlal Nehru Essay in Hindi |Jawaharlal Nehru Nibandh

Jawaharlal Nehru Essay in Hindi |Jawaharlal Nehru Nibandh

पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म १४ नवम्बर सन् १८८ को इलाहाबाद में हुआ था। इनके पिता पंडित मोतीलाल नेहरू बड़े प्रसिद्ध वकील थे । वे बड़े धनवान थे । वे काश्मोरी ब्राह्मण थे । जवाहरलाल की माता का नाम स्वरूप रानी था। जवाहरलाल बचपन में अपनी माता के साथ त्रिवेणी संगम पर जाया करते थे। इन्होंने आरम्भ की शिक्षा अपने घर पर ही पाई।

पन्द्रह वर्ष की आयु में इन्हें पढ़ने के लिये इंग्लैंड भेजा गया । वहां ये दो वर्ष हैो स्कूल में पढ़े । फिर इन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से विज्ञान में डिग्री ली। तब इन्होंने इन्नर टैम्पल में बैरिस्टरी पास की । सन् 1612 में भारत लौटकर इन्होंने इलाहाबाद में प्रैक्टिस शुरू की। कांग्रेस में जाने पर इन पर महात्मा गांधी का बड़ा प्रभाव पड़ा। नेहरू जी बैरिस्ट्री छोड़कर राज नीति में कूद पड़े ।

नेहरू जी स्वतन्त्रता की लड़ाई में कई बार जेल गए । इनकी पत्नी कमला नेहरू भी कैद हुई । फिर वे बीमार हो गई और उनकी मृत्यु हो गई । नेहरू जो की एकमात्र पुत्री इन्दिरा थी । नेहरू जी सन् 1626 में कांग्रेस के प्रधान बने । इनकी प्रधानता में लाहौर कांग्रेस में पूर्ण स्वतन्त्रता का प्रस्ताव पास हुआ । बहुत संघर्ष के बाद सन् १९४७ में भारत स्वतन्त्र हुआ । जवाहर लाल प्रधानमंत्री बने । बाद में के तीत चुनावों में भी ये ही प्रधानमन्त्री बने । बच्चों के ये प्रिय ‘चाचा नेहरूथे। सन् 1 9 62 में चीन ने भारत पर हमला किया। 27 मई, 1 9 64 को इनका देहान्त हो गया।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को जवाहरलाल नेहरू पर निबंध (Jawaharlal Nehru Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Jawaharlal Nehru Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह जवाहरलाल नेहरू पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Comment