जवाहरलाल नेहरू पर निबंध |Jawaharlal Nehru Essay in Hindi |Jawaharlal Nehru Nibandh

Jawaharlal Nehru Essay in Hindi |Jawaharlal Nehru Nibandh

पंडित जवाहर लाल भारत के प्रथम प्रधानमंत्री थे। उन्होंने भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में महात्मा गाँधी के साथ कठिन मेहनत की। वह सदैव लाल गुलाब का फूल अपनी शेरवानी पर लगाते थे। वह आम जनता में बहुत लोकप्रिय थे। वह एक महान नेता एवं आधुनिक भारत के निर्माता थे। इसीलिये उन्हें हमारे राष्ट्र का निर्माता’ कहा जाता है। उनके पास भारत को महान एवं शक्तिशाली बनाने की योजनायें थीं।

वह कम है चरित्र के धनी एवं दृढ़ संकल्प के व्यक्ति हैं थे। लोगों के लिये उनके स्नेह एवं बच्चों के लिये उनके प्यार ने उन्हें बहुत लोकप्रिय बना दिया। वह एक महान विचारक एवं -7 ( , लेखक थे। उन्होंने प्रसिद्ध पुस्तक ‘द डिस्कवरी ऑफ इण्डिया लिखी।

जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर, 1889, में इलाहाबाद में हुआ। उनके पिता श्री मोती लाल नेहरू एक मशहूर बैरिस्टर थे। उन्हें अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अंग्रेजी माध्यम से घर पर ही एक टयूटर से मिली। हाई स्कूल की पढ़ाई के लिये उन्हें इंग्लैंड भेजा गया उन्होंने कानून की शिक्षा ली। कानून पढ़ने के पश्चात् वह भारत वापस आये। उनके हदय में अपने देश एवं उसकी स्वतंत्रता के लिये एक गहरा ज़ज्बा था। वह महात्मा गाँधी जी से बहुत प्रभावित हुये। उनकी सबसे बड़ी इच्छा भारत को स्वतंत्र कराना था।

महात्मा गाँधी के मार्गदर्शन में श्री जवाहरलाल नेहरू ने स्वतंत्रता के संघर्ष में सक्रिय हिस्सा लिया। उन्होंने भी सत्य एवं अहिंसा का मार्ग अपनाया। उन्हें बहुत बार जेल भेजा गया। 1929 में उन्हें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष चुना गया। वहां स्वतंत्रता की शपथ ली गयी। संविधान सभा में उन्होंने कहा – “हम इतिहास पुरुष या महिलायें हों न हों, भारत भवितव्यता का राष्ट्र है।”

1947 को जब भारत स्वतंत्र हुआ वह भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बने। उनकी दूरदर्शिता एवं मार्गदर्शन से राष्ट्र की उन्नति, सम्पन्नता एवं सम्मान में वृद्धि हुई। उन्होंने प्रणेता की नींव रखी। वह शान्तिपूर्वक समझौता में विश्वास रखते थे। 1961 में भारत एवं चीन के मध्य पंचशील समझौता हुआ। वह निरस्त्रीकरण के परम समर्थक थे। उनके नेतृत्व में भारत को विश्व में सम्मान मिला। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय भाईचारे एवं शान्ति के लिये कड़ी मेहनत की। उन्होंने बुद्धईसा एवं नानक के बताये मार्ग का अनुसरण किया।

लम्बे समय तक मानवता एवं राष्ट्र की सेवा करने के पश्चात् 27 मई, 1964 में उनकी मृत्यु हुयी। वह अपने पीछे योजना एवं विकास की परम्परा छोड़ गये। उन्होंने विकास के चक्र एवं सामाजिक न्याय को प्रारम्भ किया। उन्होंने शिक्षा, प्रौद्योगिकी एवं चिकित्सा संस्थानों का जाल बिछा दिया। उन्होंने बड़ेबड़े औद्योगिक कृषिसिंचाई एवं ऊर्जा की योजनायें बना। सभी क्षेत्रों में उनका योगदान महत्वपूर्ण है। वह उन कुछ लोगों में से एक थे जो राष्ट्र एवं सम्पूर्ण विश्व पर अपनी छाप छोड़ जाते है।

14 नवम्बर को उनका जन्मदिन ‘बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है इससे हमें उनके महान चरित्र, आर्दशों एवं कार्यों की पुर्नस्मरण हो जाता है। विन्सटन चर्चिल के अनुसार – “उन्होंने भय सहित सभी चीजों पर विजय प्राप्त करती थी।”

जवाहरलाल नेहरू की दृष्टि अत्यन्त गहरी थी। वह एक महान वक्ता एवं अच्छे लेखक थे। वह राष्ट्र की एकता एवं व्यक्ति की स्वन्त्रता में विश्वास रखते थे।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को जवाहरलाल नेहरू पर निबंध (Jawaharlal Nehru Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Jawaharlal Nehru Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह जवाहरलाल नेहरू पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Comment