कंप्यूटर पर निबंध | Computer Essay in Hindi | Computer Nibandh

Computer Essay in Hindi |Computer Nibandh

जीवन का आधार कम्प्यूटर एक इलेक्ट्रानिक साधन है जो आवृतिमूलक गणना को अत्यधिक तीव्रता से करने में समर्थ है। कम्प्यूटर आँकड़ों (सामग्री) को संसाधित करने का साधन है जिसमें बहुत अधिक मात्रा में आँकड़े संचित कर सकते हैं। यह सामग्री गद्य, तस्वीरें, आवाज़ संख्यायेंछायाचित्र हो सकती है अथवा अन्य किसी भी प्रकार की सूचना जो लोगों द्वारा सामान्यता: प्रयोग की जाती है। आज कम्प्यूटर के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती।

वास्तव में प्रस्तुत सहस्त्राब्दि कम्प्यूटर एवं इससे सम्बन्धित तकनीकों जिसे साधारणतय: सूचना तकनीक कहते हैं की महाकल्प है। कम्प्यूटर विद्यार्थियों को शिक्षा ग्राफिक, डिजाईनिंग खेल एवं अन्य शैक्षिक विनियोगों को नवीन तकनीकें सीखने में मदद करता है। इससे विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को रिपोर्ट बनाने में भी सहायता मिलती है। कार्यालय कर्मचारियों को कम्प्यूटर हिसाब करने, साफ्टवेयर को विकास करने, बिक्री बीजक बनाने एवं निर्माण में सहायता करता है। इससे पुस्तकालयों में काम सुचारू रूप से करने में सहायता मिलती है।

कम्प्यूटर उपग्रह एवं परमाणु अस्त्रों को नियंत्रित करते हैं। यह इन्टरनेट की विभिन्न साइटस पर सर्व करने (जाने) में हर उम्र के लोगों की विभिन्न रुचियों में सहायक बनता है। वास्तव में यह अपरिहार्य हैं क्योंकि मानव जीवन का कोई भी कार्य इसके बिना अधूरा एवं अकुंशल है।

विद्यालय जाने वाले विद्यार्थियों को कम्प्यूटर अवश्य सीखना चाहिये। आज कम्प्यूटर विभिन्न स्वरूपों में उपलब्ध हैं। कम्प्यूटर संचालन सीखने के लिये 166 एम एच जेड स्पीड जिसे सी पी यू स्पीड के रूप में जानते हैं), 1.2 एम बी को भंडारण क्षमता का एच डी डी एवं 32 एम बी के आर ए एम की आवश्यकता होती है। इन प्रारम्भिक कम्प्यूटरों से विद्यार्थी को लोगो, बेसिक, विंडो गेमस एवं सिलेबि से सम्बन्धित विभिन्न लेक्चर एवं इन्टरनेट संचालन में सहायता मिलती है। हालांकि भारतीय समाज, उद्योग एवं राज्यतंत्र कम्प्यूटर के अभिग्रहण की ओर अग्रसर है किन्त हम पश्चिमी देशों की अपेT T साक्षरता में अभी बहुत पीछे हैं। अमेरीका में प्रत्येक दो विद्यार्थियों में से एक के पास कम्प्यूटर है। भारत में दो सौ विद्यार्थियों में से केवल एक के पास ही कम्प्यूटर है। इसके अतिरिक्त अमेरीका में प्रत्येक चार विद्यार्थियों में से दो को इन्टरनेट की सुविधा उपलब्ध है जबकि भारत में पचास में केवल एक विद्या’ की पहुँच इन्टरनेट तक है।

एक विद्यार्थी कम्प्यूटर के मूल सिद्धान्त बहुत शीघ्र सीख सकता है। वह अपने विद्यालय में साध्य कक्षाओं में प्रवेश लेकर अग्रवर्ती स्तर का कम्प्यूटर प्रशिक्षण प्राप्त कर सकता है। कम्प्यूटर सीखना आसान है एवं यह विद्यार्थियों के अनुकूल यंत्र है। इससे विद्यार्थियों की कार्यकुशलता में वृद्धि होती है एवं अधिक ज्ञान प्राप्त होता है। कम्प्यूटर विद्यार्थियों के ज्ञान में वृद्धि करते है।

उनकी शिक्षा में, मानसिक विकास में एवं मनोरंजन में उसके सहायक होते है। आने वाले समय में प्रत्येक विद्यार्थी के पास या तो अपना एक कम्प्यूटर होगा अन्यथा उसकी उस तक स्वतन्त्र पहुँच होगी। बैंक पूरी तरह कम्प्यूटरीकृत हो गये हैं एवं अधिकतर फैक्ट्रियाँ कार्यालयविश्वविद्यालय एवं विद्यालयों में अग्रवर्ती कम्प्यूटर व्यवस्था है। कम्प्यूटर की नवीनतम संसाधन स्पीड एम एच जेड 533 है। किन्तु यह कम्प्यूटर अत्यन्त मंहगा है। एक कम्प्यूटर जो विद्यार्थियों की आवश्यक्ताओं को पूर्ण कर सकता है वह लगभग तीस हजार रुपये कीमत का है। आने वाले एक वर्ष में कीमतें और कम हो जायेंगी। विद्यार्थियों को सामूहिक शिक्षा एवं बौद्धिक विकास के लिये कम्प्यूटरों को अपनाना चाहिये। कम्प्यटर सॉफ्टवेयर T उदीयमान क्षेत्र हैं एवं विद्यार्थी इसमें प्रगति कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त प्रतिभाशाली प्रोग्रामरस की अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा,

आस्ट्रेलिया एवं म्यूज़ीलैंड इत्यादि देशों में भी बहुत माँग है। कम्प्यूटर के क्षेत्र में अगर विद्यार्थी कठिन मेहनत करते हैं तो उनके आने वाले जीवन में वह अच्छी जीविका कमा सकते हैं। )

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को कंप्यूटर पर निबंध (Computer Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Computer Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह कंप्यूटर पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Comment