इंटरनेट पर निबंध | Internet Essay in Hindi | Internet Nibandh

Internet Essay in Hindi | Internet Nibandh

वर्तमान समय की इंटरनेट नीति का भारत सरकार के द्वारा नवम्बर 1998 के दौरान निर्णय लिया गया और इसने भारत को सूचना तकनीक की क्रांति में सबसे आगे रख दिया। यह सच में भारतीय कार्यकर्ताओंव्यापारियों और व्यवसायों के लिए अच्छा चिह्न है और यह सूचना तकनीक के क्षेत्र में प्रगति का द्वार साबित हो रहा है।

इस संबंध में सरकार ने जो निर्णय लिए हैं, वह निम्न हैं

1. निजी इंटरनेट सेवा को उपलब्ध कराने वालों को द्वार को स्थापित करने की इजाजत मिल गई, ताकि इंटरनेट के जरिए एक-दूसरे से जुड़ा रहा जा सके।
2 लाइसेंस पन्द्रह सालों के लिए लागू किया गया। पहले पाँच सालों से कोई लाइसेंस फीस नहीं है और बाद के सालों में हर साल एक रुपया फीस लागू की गई।
3. आईएसपी को अपने टैरिफों को निर्धारित करने की इजाजत दे दी जाएगी। इस नीति के चलते सरकार ने कुछ निजी आईएसपी को लाइसेंस जारी कर दिए और ज्यादा लाइसेंस उनको जारी किए गए जो पंक्ति में इंतजार कर रहे थे। निजीकरण ने इंटरनेट सुविधाओं की कीमतों में कमी कर दी है। इससे इंटरनेट में कार्य करना आसान बना
दिया गया है।

कम्प्यूटर यंत्रों की कीमतें पिछले दो सालों से गिर गई हैं, तब भी इंटरनेट भारत में आम आदमियों की पहुंच से दूर है। ईमेल और ई-कॉम बहुत जल्द गति पकड़ रहे हैं, पर सिर्फ कोरपोरेट क्षेत्र में। शहरी क्षेत्र में ईमेल का इस्तेमाल आनंद और दोस्ती के लिए किया जाता है। कोरपोरेट इस्तेमाल करने वाले -मेल व ईकॉम का और दूसरी वेबसरफिंग गतिविधियों का इस्तेमाल अपनी कोरपोरेट बढ़ोतरी के लिए कर रहे हैं। विद्यार्थियों के लिए इंटरनेट की कीमतें कम हैं। विद्यार्थी इंटरनेट का कनैक्शन 100 घंटे के लिए 3500 रु. की कम से कम लागत में ले सकते हैं। पर कम्प्यूटर हार्डवेयर सस्ता करना होगा।

बहुत से अखबारों और पत्रिकाओं की इंटरनेट पर अपनी वेबसाइट है। इंटरनेट पर लगभग 300 सर्च इंजन हैं, जो लगभग हर चीज के बारे में सूचना उपलब्ध कराते हैं, चाहे वह | ब्रह्माण्ड से जुड़ी हो, विज्ञान, दवाई, मित्र, तकनीक या यातायातविश्व के राष्ट्रों, घोटालों किताबों, पत्रिकाओंखरीदने और बेचने के तरीके, साहित्य, खेल, तत्कालीन घटनाएँ, शिक्षा आदि कुछ प्रिय विषय हैं, जिनके लिए सूचना माँगी और ली जाती है। ऐसे सर्च इंजन (जैसे याहू) व्यापार, पीले पन्नों और दुनियाभर की दूसरी गतिविधियों के बारे में सूचना देते हैं।

दुनिया इंटरनेट क्रांति की वजह से सिकुड़ रही है। भारत में पूरी उम्मीद है कि कार्यकर्ता अधिक से अधिक फायदा लेंगेजिससे इंजीनियरिंग और प्रबंधन व्यवसायों, मालिकों और युवाओं को मौका मिलेगाक्योंकि इंटरनेट की कीमतें अब बहुत घट चुकी हैं। टेलनेटइंटरनेट, वैन, यूजनेट और आईएसडी.एन. फोन संचार क्षेत्र में शासन करेंगे यह तरीका नई सहस्राब्दी के व्यापार का होगा। भारत को तकनीक को स्वीकार करने के बाद भी अभी लम्बी राह में जाना है। हमारे बच्चे किसी भी सामाजिक, व्यक्तिगत आनंदक्रीड़ा, शैक्षिक या व्यापारिक गतिविधियाँ बिना इस सेवा के नहीं ले पाएंगे।

यह समय बिल्कुल सही है, जब हम सूचना के उस अति विलक्षण तकनीक पर टिके रहें। भारतीयों को सूचना के तरीकों और तकनीकों में महारथ हासिल कर लेनी चाहिएहमें इंटरनेट की सेवाएँ दुनिया के किसी भी राष्ट्र से ज्यादा चाहिएहमारी इतनी ज्यादा जनसंख्या, बढ़ती हुई समस्याएँबड़ी दूरियाँअर्थव्यवस्था की वृद्धि के लिएइस उपग्रह क्रांति और संचार की बहुत आवश्यकता है।

भारत ने हमेशा नई तकनीकों का स्वागत किया है और यह तकनीक भारत की अर्थव्यवस्था को नई और दृष्टिगत ऊँचाई पर ला देगी।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को इंटरनेट पर निबंध (Internet Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Internet Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह इंटरनेट पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *