गर्मी की छुट्टी पर निबंध | Summer Vacation Essay in Hindi | Summer Vacation Nibandh

Summer Vacation Essay in Hindi | Summer Vacation Nibandh

गरमियों की छुट्टियों में हमें कालका मेल से शिमला जाना था। अत: हम प्लेटफार्म . आठ पर गए । वहाँ यात्रियों की अपार भीड़ थी। हमारी गाड़ी छूटने का समय दस बजे था। पंद्रह मिनट पहले गाड़ी प्लेटफार्म पर आ गई। हम सब डब्बे में अपना सामान रखकर आराम से बैठ गए। गार्ड के सीटी देते ही गाड़ी चल पड़ी। सायं लगभग छ: बजे गाड़ी कालका स्टेशन पहुँच गई। हम सबने खाना खाया और रात्रि प्रतीक्षालय में बिताई।

प्रातसाढ़े आठ बजे हम पुन: नैरोगेज गाड़ी पर सवार हुए। जैसे ही सुरंग आती छोटे-बड़े शोर मचाते और प्रसन्नता से झूम उठते। अनेक सुरंगों को पार करते हुए हमारी गाड़ी दोपहर एक बजे शिमला पहुँच गई। शिमला में हम ग्रांड होटल में ठहरे।

शिमला पहुंचकर हमें ऐसा लगा मानो स्वर्ग में आ गए हैं। वहाँ चारों तरफ हरियाली थी। मौसम बड़ा सुहावना था और ठंडी ठंडी हवा हमारे मन को प्रसन्न कर रही थी। शाम को माल रोड पर बड़ी रौनक रहती है । रंग बिरंगी पोशाकें पहने लोग ऐसे घूमते हैं। मानो वे सबकुछ भूलकर मस्ती की दुनिया में जी रहे हों। हम नित्य वहाँ के रमणीक स्थानों को देखने जाते। वहाँ के मस्त मौसम में दिन निकलने और छिपने का पता ही नहीं चलता। इस प्रकार हमने जून का पूरा महीना वहाँ बिताया। ग्रीष्मकालीन छुट्टियाँ समाप्त होने को थीं।

अतहम पहली जुलाई को दिल्ली वापस आ गए। हमारा गरमी का मौसम बड़े अच्छे ढंग से बीत गया। मुझे यह रेलयात्रा हमेशा स्मरणीय रहेगी।

प्लिज नोट: आशा करते हैं आप को गर्मी की छुट्टी पर निबंध (Summer Vacation Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

अगर आपके पास भी Summer Vacation Nibandh पे इसी प्रकार का कोई अच्छा सा निबंध है तो कमेंट बॉक्स मैं जरूर डाले। हम हमारी वेबसाइट के जरिये आपने दिए हुए निबंध को और लोगों तक पोहचने की कोशिश करेंगे।

साथ ही आपको अगर आपको यह गर्मी की छुट्टी पर हिन्दी निबंध पसंद आया हो तो Whatsapp और facebook के जरिये अपने दोस्तों के साथ शेअर जरूर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *